किसान आंदोलन का 50वां दिन : किसानों ने कहा- संघर्ष जारी रहेगा

किसान आंदोलन का 50वां दिन : किसानों ने कहा- संघर्ष जारी रहेगा

Posted On - 13 Jan 2021

अब 26 जनवरी तक यह रहेगा कार्यक्रम, जानें, किसान आंदोलन में किस दिन क्या होगा?

किसान आंदोलन को 50 दिन पूरे हो रहे हैं, लेकिन अभी तक किसानों की मांगे पूरी नहीं हुई हैं। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने नए कृषि कानूनों को लेकर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। वहीं नए कृषि कानूनों को लेकर आ रही समस्याओं को सुलझाने के लिए चार सदस्यीय एक कमेटी का गठन भी कर दिया है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले से किसान संतुष्ट नहीं है। किसानों का कहना है कि वे कमेटी के समाने नहीं जाएंगे। यहीं कारण है कि मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी किसानों का आंदोलन जारी है। आज किसानों के आंदोलन का आज 50वां दिन है। किसानों ने आंदोलन जारी रखने का फैसला किया है। मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसान कृषि कानूनों की कॉपी जलाकर लोहड़ी मनाएंगे। बता दें कि हरियाणा और पंजाब सहित देश के विभिन्न हिस्सों के किसान पिछले साल 26 नवंबर 2020 से दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं और तीनों कानूनों को वापस लेने तथा अपनी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की वैधानिक गारंटी की मांग कर रहे हैं।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

शांतिपूर्वक एवं लोकतांत्रिक संघर्ष जारी रहेगा

किसान नेताओं द्वारा मीडिया को बताए गए अनुसार उपरोक्त कार्यकमों के साथ-साथ अदानी, अंबानी के उत्पादों का बहिष्कार करने और भाजपा के समर्थक दलों पर दबाव डालने के हमारे कार्यक्रम बदस्तूर जारी रहेंगे। तीनों किसान विरोधी कानूनों को रद्द करवाने और एमएसपी की कानूनी गारंटी हासिल करने के लिए किसानों का शांति पूर्वक एवं लोकतांत्रिक संघर्ष जारी रहेगा।

 


कृषि कानूनों के विरोध में एक ओर किसान की मौत, जहर खाकर दी जान

पठानकोट-अमृतसर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पडऩे लदपालवा टोल प्लाजा के समीप एक किसान ने कृषि कानूनों के विरोध में जहर निगल लिया। इसके चलते किसान को इलाज के लिए निजी अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई। किसान की मौत के बाद अन्य किसानों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया। इस सबंध में जानकारी देते किसानों ने बताया कि किसान सुच्चा सिंह (गुरदासपुर के गांव खोखर निवासी) संघर्ष में हिस्सा लेने के लिए पहुंच था। उसने कहा था कि उससे किसानों का दुख देखा नहीं जा रहा और लगता है कि इसी वजह से उस ने अपनी शहादत दी है। बता दें कि किसान आंदोलन के शुरू होने से लेकर अब तक करीब 22 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है।

 

यह भी पढ़ें : लेजर लैंड लेवलर : खेत को बनाएं समतल, पानी-खाद और ईंधन की करें बचत

 

किसान आंदोलन के तहत यह रहेगा आगामी कार्यक्रम

  • किसान नेताओं के अनुसार बुधवार को लोहड़ी पर तीनों कानूनों को जलाने का कार्यक्रम होगा।
  • 15 जनवरी को वे सरकार के साथ होने वाली बैठक में शामिल होंगे। संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा घोषित आंदोलन के कार्यक्रम में कोई बदलाव नहीं है।
  • 18 जनवरी को महिला किसान दिवस मनाएंगे।
  • 20 जनवरी को श्री गुरु गोविंद सिंह की याद में शपथ लेंगे।
  • 23 जनवरी को आज़ाद हिंद किसान दिवस पर देश भर में राजभवन का घेराव करने का कार्यक्रम जारी रहेगा।
  • 26 जनवरी के दिन देशभर के किसान दिल्ली पहुंचकर शांतिपूर्ण तरीके से किसान गणतंत्र परेड आयोजित कर गणतंत्र का गौरव बढ़ाएंगे।


इधर भाजपा सांसद हेमामालिनी ने धरने पर बैठे किसानों को लेकर किया सवाल

भारतीय जनता पार्टी की सांसद और बॉलीवुड अभिनेत्री हेमा मालिनी ने धरने पर बैठे किसानों को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है। हेमा मालिनी का कहना है कि जो किसान धरने पर बैठे हैं, उन्हें कानून में समस्या ही नहीं पता है।

 

 

अगर आप अपनी  कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back