सरसों के भावों में आई तेजी, जानें, देश की प्रमुख मंडियों के ताजा भाव

प्रकाशित - 23 Jan 2023

सरसों के भावों में आई तेजी, जानें, देश की प्रमुख मंडियों के ताजा भाव

सरसों के भावों में तेजी का क्या है कारण और क्या रहेगा आगे बाजार का रूख

बाजार में सरसों के भावों में तेजी का दौर बना हुआ है। देश में तिलहन की बढ़ती मांग के कारण सरसों के भावों में चमक दिखाई दे रही है। मंडी में सरसों की अगेती फसल आना शुरू हो गई है। लेकिन मांग के हिसाब से फिलहाल बाजार में सरसों इतनी नहीं पहुंच रही है। सरसों की शुरुआती आवक कमजोर होने से इसके भाव ऊंचे बने हुए हैं। किसानों को बाजार में सरसों के एमएसपी से ऊंचे दाम मिल रहे हैं। बता दें कि सरकार की ओर से इस वित्तीय सीजन के लिए सरसों का एमएसपी 5050 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। जबकि बाजार में अच्छी क्वालिटी की सरसों के भाव 6000 रुपए से लेकर 7000 रुपए तक चल रहे हैं।

Buy Used Tractor

इस तरह किसानों को सरसों का शुरुआती रेट भी काफी अच्छा मिल रहा है। इससे आशा की जा रही है कि सरसों के भाव आगे भी ऊंचे देखने को मिल सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो ये किसानों के लिए काफी अच्छी बात होगी, उन्हें सरसों की फसल से काफी लाभ होगा। हालांकि बाजार में सरसों की अगेती फसल आनी शुरू हुई है वे भी कम मात्रा में, इससे भी इसके भाव किसानों को अच्छे मिल रहे हैं। बता दें कि इस बार देश में सरसों उत्पादक राज्यों में किसानों ने ज्यादा रकबे में सरसों की बुवाई की है, इससे अनुमान है कि इस बार पिछले साल के मुकाबले 7 से 8 प्रतिशत सरसों का उत्पादन अधिक होगा।

आज हम ट्रैक्टर जंक्शन के माध्यम से किसान भाइयों को सरसों में तेजी की रिपोर्ट के साथ ही आगे सरसों को लेकर क्या मार्केट का रूख रहेगा, सरसों के भाव कम होंगे या इससे भी ऊंचे जाएंगे, इन सब बातों पर चर्चा करेंगे।

क्या है सरसों के अच्छे भाव मिलने का कारण

अभी बाजार में सरसों की बहुत ही कम फसल आ रही है। इसमें भी किसान भावों में हो रहे उतार-चढ़ाव को ध्यान में रखकर बाजार में कम मात्रा में सरसों की फसल ला रहे हैं। इससे किसानों को बाजार में अपनी अगेती सरसों के अच्छे भाव मिल रहे हैं। लेकिन अभी बाजार में सरसों की आवक कमजोर है। लेकिन जब देश के कई राज्यों में सरसों की कटाई मार्च से अप्रैल के बीच शुरू हो जाएगी। तब इसके भावों को लेकर सही स्थिति स्पष्ट होगी। लेकिन फिलहाल जो भाव मार्केट में सरसों का भाव चल रहा है उससे उम्मीद है कि आगे भी सरसों के भाव तेज ही रहेंगे। हालांकि भावों में थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है। ऐसे में किसानों को आशा है कि इस बार सरसों उनकी जेब भर सकती है।

भारत में सर्वाधिक लोकप्रिय ट्रैक्टरों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

देश की प्रमुख मंडियों में क्या चल रहे हैं सरसों के भाव

देश की अलग-अलग मंडियों में सरसों के भाव अलग-अलग होते हैं। सरसों के भावों में प्रतिदिन उतार-चढ़ाव होता रहता है। यहां हम सरसों के विभिन्न मंडियों के भाव दे रहे हैं, जो इस प्रकार से हैं-

राजस्थान की मंडियों में सरसों के भाव

  • जयपुर मंडी में सरसों का भाव 6020 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।
  • गंगानगर मंडी में सरसों के भाव 6030 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास है।
  • मेड़ता सिटी पीली सरसों के भाव 6120 रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं।
  • जोधपुर मंडी में सरसों के भाव 5990 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास है।

यूपी की मंडियों में सरसों के भाव

  • मेरठ मंडी में सरसों के भाव 5940 रुपए प्रति क्विंटल हैं।
  • मैनपुरी मंडी में सरसों के भाव 6010 रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं।
  • बरेली मंडी में सरसों के भाव 6020 रुपए प्रति क्विंटल हैं।
  • ललितपुर मंडी में सरसों के भाव 6050 रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं।
  • इटावा मंडी में सरसों के भाव 6000 रुपए प्रति क्विंटल चल रहे हैं।

एमपी की मंडियों में सरसों का भाव

  • सरसों काला कैलारस का भाव 5800 रुपए प्रति क्विंटल है।
  • बैतूल मंडी में सरसों का भाव 5910 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।
  • बिहार चंपारण में सरसों का भाव 8160 रुपए प्रति क्विंटल है।
  • मुंबई मंडी मार्केट में सरसों का भाव 7000 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।
  • गुजरात के राजकोट में सरसों का भाव 5200 रुपए प्रति क्विंटल है।

(उपरोक्त दिए गए भाव सरसों के उच्चतम भाव हैं, जो अलग-अलग मंडियों में प्रतिदिन बदलते रहते हैं, इसलिए किसान भाई अपनी उपज बेचने से पहले अपने क्षेत्र की निकटतम मंडी से भावों की जानकारी जरूर लें।)

Tractor Junction Mobile App

भारत में पुराने एश्योर्ड ट्रैक्टर की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

सरसों को लेकर आगे क्या रहेगा बाजार का रूख

बाजार एक्सपर्ट्स के अनुसार ये शुरुआती सरसों के भाव तेज दिखाई दे रहे हैं, ऐसे में सरसों के किसानों को इसका लाभ मिल सकता है। आगे भी इसके भाव अच्छे मिलने की संभावना नजर आ रही है। लेकिन अभी इसके भावों को लेकर कुछ कहना जल्दबाजी होगी। देश में सरसों की पैदावार और मंडी में आवक को देखकर ही आगे की स्थिति के बारे में कहा जा सकता है। फिर भी सरसों के भाव इस साल ऊंचे रह सकते हैं, क्योंकि सरसों की घरेलू मांग काफी है जिसकी पूर्ति सरकार को बाहर से तिलहन का आयात करके करनी पड़ती है। ऐसे में यदि देश में सरसों की पैदावार अच्छी होती है तो इससे किसानों को बेहतर दाम मिलेंगे।

इस बार देश में सरसों का कितना उत्पादन होने की है उम्मीद

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यदि मौसम सही रहा तो इस बार देश में सरसों की बंपर पैदावार हो सकती है। क्योंकि इस बार किसानों ने पिछले साल की तुलना में अधिक क्षेत्रफल में सरसों की बुवाई की है। बताया जा रहा है कि भारत में पहली बार 10 मिलियन हेक्टेयर में सरसों की बुवाई हुई है। अखिल भारतीय खाद्य तेल व्यापारी महासंघ ने र‍िकॉर्ड बुवाई और अच्छी फसल को देखते हुए 130 लाख टन सरसों उत्पादन का अनुमान व्यक्त किया है। बता दें कि प‍िछले वर्ष देश में 117.46 लाख टन सरसों का उत्पादन हुआ था। इसे देखते हुए इस साल सरसों की बंपर पैदावार की उम्मीद जताई जा रही है। 

ट्रैक्टर जंक्शन हमेशा आपको अपडेट रखता है। इसके लिए ट्रैक्टरों के नये मॉडलों और उनके कृषि उपयोग के बारे में एग्रीकल्चर खबरें प्रकाशित की जाती हैं। प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों कुबोटा ट्रैक्टर, न्यू हॉलैंड ट्रैक्टर आदि की मासिक सेल्स रिपोर्ट भी हम प्रकाशित करते हैं जिसमें ट्रैक्टरों की थोक व खुदरा बिक्री की विस्तृत जानकारी दी जाती है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

अगर आप नए ट्रैक्टरपुराने ट्रैक्टरकृषि उपकरण बेचने या खरीदने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार और विक्रेता आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु को ट्रैक्टर जंक्शन के साथ शेयर करें।

हमसे शीघ्र जुड़ें

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back