उत्तरप्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान की खरीद शुरू

उत्तरप्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान की खरीद शुरू

Posted On - 01 Oct 2020

जानें क्या है खरीद केंदों पर व्यवस्था और किस समय होगी खरीद, 28 फरवरी 2021 तक जारी रहेगी धान की खरीद

उत्तर प्रदेश में धान की खरीद गुरुवार से शुरू हो गई है। इसके लिए विभिन्न खरीद केंद्रों पर समुचित व्यवस्था की गई है ताकि किसानों को कोई परेशानी नहीं हो। उत्तरप्रदेश सरकार इस बार किसानों से 50 लाख टन धान की खरीद करेगी। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने मीडिया को बताया कि मंत्रिमंडल ने धान खरीद नीति को अनुमोदित करते हुए सामान्य किस्म के धान को 1850 रुपए प्रति क्विंटल तथा ए ग्रेड के धान को 1837 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीदने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि धान की छान-बीन के लिए किसानों को 20 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से अतिरिक्त धनराशि चुकाई जाएगी।

शर्मा ने बताया कि वर्ष 2018-9 में 48 लाख 25 हजार टन धान खरीदा गया था। वहीं 2019-20 में 50 लाख टन धान खरीद का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष सामान्य श्रेणी का धान 1750 रुपए प्रति क्विंटल जबकि ए ग्रेड का धान 1770 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीदा गया था। साथ ही धान की साफ सफाई के लिए 20 रुपए प्रति क्विंटल अलग से भुगतान किया गया था। शर्मा ने बताया कि धान खरीद एक अक्टूबर से शुरू होकर अगले साल 28 फरवरी तक जारी रहेगी।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


कब राज्य के किस जिले में होगी खरीद

खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के लिए खाद्य एवं रसद विभाग की प्रमुख सचिव वीणा कुमारी ने मूल्य समर्थन योजना के अंतर्गत धान क्रय नीति जारी की है। धान क्रय नीति के तहत लखनऊ संभाग के जनपद हरदोई, सीतापुर, लखीमपुर तथा संभाग बरेली, मुरादाबाद, मेरठ, सहारनपुर, आगरा, अलीगढ़ तथा झांसी में धान खरीदी की अवधि 1 अक्टूबर 2020 से 31 जनवरी, 2021 तक धान की खरीद की जाएगी। वहीं लखनऊ संभाग के जनपद लखनऊ, रायबरेली, उन्नाव व चित्रकूट, कानपुर, फैजाबाद, देवीपाटन, बस्ती, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी, मिर्जापुर एवं प्रयागराज मंडलों में 1 नवंबर, 2020 से 28 फरवरी, 2021 तक धान खरीदी जाएगी। यहां धान के खरीद केंद्रों के खुलने का समय सुबह 9.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक का रहेगा।

 


किसानों की सुविधा के लिए खरीद केंद्रों के समय में किया जा सकेगा परिवर्तन

धान खरीद नीति के अनुसार जिलाधिकारी, स्थानीय परिस्थितयों के अनुसार खरीदी केंद्रों के खुलने एवं बंद करने के समय में आवश्यक परिवर्तन कर सकेंगें। किसानों को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से रविवार एवं राजपत्रित अवकाशों को छोडक़र शेष कार्य दिवसों में धान केंद्र खुले रहेंगे। जिलाधिकारी केंद्रों पर धान की आवक व लक्ष्यपूर्ति को ध्यान में रखते हुए अवकाश के दिनों में भी धान की खरीद की जाएगी।


इस बार 3000 खरीद केंद्र खोला जाना है प्रस्तावित

खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के लिए 3000 खरीद केंद्र खोला जाना प्रस्तावित है। खरीदी केंद्रों का निर्धारण एवं चयन जिलाधिकारी द्वारा इस प्रकार किया जाएगा की किसान को अपना धान बेचने के लिए 08 किलोमीटर से ज्यादा दूरी न तय करनी पड़े। उपज खरीद सत्र में 100 मीट्रिक टन से कम खरीद की संभावना वाले क्षेत्र में विकास खंड स्तर पर अधिकतम एक केंद्र ही खोला जाएगा। वहीं उन क्षेत्रों में खरीद केंद्र मुख्य रूप से स्थापित किया जाएगा, जहां धान की अच्छी आवक होती है।


धान की उपज बेचने के लिए ऐसे करा सकते हैं पंजीकरण

इन खरीद केंद्रों पर धान की उपज बेचने के लिए किसान को अपना पंजीकरण करना जरूरी होता है। इसके बाद ही उससे धान की खरीद की जाती है। उत्तरप्रदेश राज्य में धान की खरीदी खाद्य एवं रसद विभाग के द्वारा की जाती है। किसानों को धान समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए www.fsc.up.gov.in पर पंजीकरण करवाना आवश्यक होता है। किसान इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 1800-1800-150 पर संपर्क कर सकते है।


पंजीकरण हेतु आवश्यक दस्तावेज

  • जोतबही / खाता नंबर अंकित कम्प्यूटराइड खतौनी की कॉपी
  • आधार कार्ड की कॉपी
  • बैंक पासबुक के प्रथम पृष्ठ (जिसमें खाता धारक का विवरण अंकित हो) की कॉपी
  • किसान का एक पासपोर्ट साइज फोटो ।

 

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back