मक्का का भाव : मक्का की कीमतों में तेजी, 1800 रुपए से ऊपर पहुंचा भाव 

Published - 27 Aug 2021

मक्का का भाव : मक्का की कीमतों में तेजी, 1800 रुपए से ऊपर पहुंचा भाव 

जानें, देश की प्रमुख मंडियों में मक्का के ताजा भाव 

सरसों व ग्वार के बाद अब मक्का की कीमतों में उछाल आ रहा है। देश की अधिकांश मंडियों में मक्का के भावों में तेजी देखी गई। जहां मक्का के भाव 1800 रुपए से ऊपर तक पहुंच गए। इससे मक्का व्यापारियों को काफी लाभ हो रहा है। दूसरी ओर किसानों को भी आगे के लिए मक्का की खेती में फायदा नजर आ रहा है। यदि भाव इसी प्रकार बने रहे तो उम्मीद की जा रही है कि मक्का उत्पादक किसानों को भी आने वाले सीजन इसका फायदा मिल सकता है। बता दें कि पिछले महीने मक्का का भाव 1400 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास चल रहा था। वहीं पिछले वर्ष लॉकडाउन में मक्का के भाव में गिरावट आई थी और मक्का सिर्फ 1100 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही थी। लेकिन बीते कुछ दिनों के दौरान इसके भावों में 400 रुपए से अधिक की तेजी दर्ज की गई है। इससे मक्का की खेती करने वाले किसान खुश है।

Buy Used Tractor

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 

 

क्यों बढ़ रहे हैं मक्का का भाव

बाजार विशेषज्ञों की मानें तो बीते कुछ महीनों से मुर्गी पालन का व्यवसाय काफी तेजी से बढ़ा है। इसके लिए राज्य सरकारों की ओर से सब्सिडी भी दी जाती है। इसका लाभ मुर्गी पालकों को मिला है। और काफी संख्या में मुर्गी पालन व्यवसाय को लोगों ने अपनाया है। इससे मक्का की खपत बढ़ी है। बता दें कि मवेशियों के चारे के लिए ही मक्का का उपयोग किया जाता है। साथ ही मछलियों के चारे में भी मक्का का इस्तेमाल होता है। इधर कडक़नाथ मुर्गा और अन्य मुर्गा पालकों को व्यापार बढ़ाने के लिए बड़े स्तर पर बिहार सरकार ने बेरोजगारों लोगों की मदद की है। मुर्गी पालन पर सब्सिडी देकर राज्य सरकार ने प्रदेश में सैकड़ों अतिरिक्त फार्म खुलवाए हैं। इसके अलावा राज्य में मछली पालन और पशुपालन पर भी ज़ोर दिया गया है। जिससे चारे की खपत बढ़ी है। चारा की खपत बढऩे से मक्का की मांगों में तेजी आई है।


क्या है मक्का का 2021 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य

सरकार की ओर से रबी और खरीफ की फसलों के लिए हर साल न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाता है। इस साल के लिए मक्का का न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी 1870 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है। लेकिन मक्का के न्यूनतम समर्थन मूल्य का फायदा किसानों को ज्यादा मिल नहीं पाता है। क्योंकि बिहार सहित कई राज्य सरकारें मक्का को एमएसपी पर खरीदने में आनाकानी करती है। न तो सरकार मक्का खरीदती है और न ही कोई सरकारी एजेंसी।

Tractor Junction Mobile App


देश में कहां-कहां होता है मक्का का उत्पादन / खेती

भारत में चावल और गेहूं के बाद मक्का तीसरी सबसे महत्वपूर्ण अनाज की फसल है। यह देश में कुल अनाज उत्पादन का लगभग 10 प्रतिशत है। पशुओं के लिए मानव और गुणवत्ता खाद्य के लिए मुख्य भोजन के अतिरिक्त मक्का हजारों औद्योगिक उत्पादों के लिए एक मूल कच्चे माल के रूप में कार्य करता है जिसमें स्टार्च, तेल, प्रोटीन, मादक पेय पदार्थ, खाद्य स्वीटर्स, फार्मास्यूटिकल, कॉस्मेटिक, फिल्म, कपड़ा, गम, पैकेज और पेपर उद्योग आदि शामिल हैं। भारत में मक्का उत्पादन में अग्रिय राज्यों में कर्नाटक, मध्य प्रदेश, बिहार, तमिलनाडु, तेलंगाना, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश है। 


देश की प्रमुख मंडियों में मक्का का ताजा भाव

पिछले कुछ के दौरान देश की प्रमुख मंडियों में मक्का के भावों में तेजी दर्ज की गई है। इसके भावों जबरदस्त उछाल आया है। देश की प्रमुख मंडियों में मक्का के भाव इस प्रकार से हैं-

यमुनानगर मंडी में 1860 रुपए, सिमरन दुर्ग में 2015, सुगुना सफीदों मेें 1890, सिमरन नागपुर में 1980, आनंद में 2010, बड़वाह में 1600, बलभद्रपुरम में 2000, ग्रेनस्पान बावला में 2075, चालीसगाव भाव में 1850, चोटिला में 1910, दाहोद में 2000-2075, दोंडाइचा में 1900, तिरुपति घाटाबिल्लौद में 1875, गुहना में 1925, हिम्मतनगर में 1875, अंबुजा हिम्मतनगर में 1875, हैदराबाद में 2050, झगडिया में 1960, कामरेज में मक्का भाव 2050, अमूल कंजर में 2060, अमूल कापड़ीवाव में 2050, करनाल में 1825, कठवाड़ा में 1920, राजाराम मंदसौर में 1855, पंजाब में 1825, रुद्रपुर में मक्का भाव 1825, संगरेद्द्य में 2000, सह्याद्री सांगली में 2000, सांवेर में 1900, सरहिंद में 1825, सितारगं में 1825, जाफा सुपा में 1955, सुरेंद्रनगर में 1900, ब्लू क्राफ्ट यमुनानगर में 1900, अहमदाबाद में 1920, शिरपुर में 1930, हिम्मतनगर में 1875, चालीसगांव में 1850, बावला में 2000, मिरज में 1990, सांगली मेंं 2025 से 2100, बारामती में 2000 से 2050, श्रीरामपुर में 2000, सूपा में 1980, पोइनाड में 2050, मालेगांव में 1980, मुंडवा में 2040, केतकावले में 1980, मोरवाड़ी में 2030, सोलापुर में 1980 रुपए प्रति क्विंटल।


मक्का उत्पादक प्रमुख राज्यों में मक्का का रेट

  • तामिलनाडु- 2120 से 2160 रुपए प्रति क्विंटल।
  • राजस्थान- 1800 से 1850 रुपए प्रति क्विंटल।
  • हरियाणा- 1850 से 1900 रुपए प्रति क्विंटल।
  • पंजाब- 1850 से 1900 रुपए प्रति क्विंटल।
  • आंध्रप्रदेश के हैदराबाद में- 2030 से 2050 रुपए प्रति क्विंटल।
  • कनार्टक के बेंगलुरु में - 2080 से 2100 रुपए प्रति क्विंटल।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back