बढऩे लगी खाद्य पदार्थों की कीमतें, लोगों की जेब पर पड़ेगा असर

बढऩे लगी खाद्य पदार्थों की कीमतें, लोगों की जेब पर पड़ेगा असर

Posted On - 08 Feb 2021

जानें, किन रोजमर्रा की चीजों में आया उछाल और कितनी बढ़ी कीमतें?

इन दिनों बाजारों में रोजमर्रा के काम आने वाली वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। विशेष कर खाद्य पदार्थों की कीमतों में यह बढ़ोतरी नजर आई है। पिछले पांच दिनों के दौरान प्याज, दालें, तेल, मसाले आदि की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इससे लोगों की जेब पर असर पड़ेगा। मीडिया से मिली जानकारी आधार पर विदेशी बाजारों में तेजी के रूख के बीच दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में मूंगफली, सरसों, मूंगफली तेल तिलहन और कच्चा पामतेल कीमतों में बढ़ोतरी दिखी है। वहीं इंदौर के संयोगितागंज अनाज मंडी में चना कांटा 125 रुपए, मसूर 100 रुपए, तुअर (अरहर) 300 रुपए और उड़द के भाव में 100 रुपए प्रति क्विंटल की तेजी आई। इससे चना की दाल 100 रुपए, मसूर की दाल 100 रुपए, तुअर की दाल 300 रुपए, मूंग की दाल 200 रुपए, मूंग मोगर 200 रुपए एवं उड़द मोगर 100 रुपए प्रति क्विंटल महंगी बिकी।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1


धनिया के भाव भी चढ़े

मसालों में धनिया वायदा में भी तेजी का रूख देखने को मिला है। मीडिया में प्रकाशित खबरों के हवाले से एनसीडीईएक्स में धनिया का अप्रैल वायदा कीमत 30 रुपए अथवा 0.48 प्रतिशत की तेजी के साथ 6,288 रुपए प्रति क्विंटल पहुंच गया। इसमें 2,195 लॉट का कारोबार हुआ। धनिया का मई वायदा भी 6,288 रुपए प्रति क्विंटल रहा, जिसमें पांच लॉट का कारोबार हुआ। विश्लेषकों के अनुसार हाजिर बाजार में मजबूती के रुख तथा उत्पादक क्षेत्रों से सीमित आपूर्ति के कारण धनिया वायदा में तेजी आई। बता दें कि अभी पिछले दिनों तक धनिया के भावों में मामूली गिरावट आई थी लेकिन अब फिर से इसके भावों में तेजी आने लगी है।

 


रिफाइंड तेल की कीमतें उछली

रिफाइंड सोया तेल वायदा में भी तेजी रही। एनसीडीईएक्स में इसका फरवरी वायदा 3.9 रुपए यानी 0.35 प्रतिशत की तेजी के साथ 1,105 रुपए प्रति 10 किग्रा हो गया। इसमें 34,550 लॉट का कारोबार हुआ। इसी प्रकार रिफाइंड सोया तेल का मार्च वायदा 4.9 रुपए यानी 0.45 प्रतिशत की तेजी के साथ 1,101.8 रुपए प्रति 10 किग्रा हो गया। इस अनुबंध में 25,105 लॉट का कारोबार हुआ।

 

यह भी पढ़ें : न्यूनतम समर्थन मूल्य : मध्यप्रदेश में रबी फसलों की खरीद 15 मार्च से शुरू


मेंथा ऑयल में तेजी, साबुन सैनिटाइजर व कफ सीरप बनने में होता है इस्तेमाल

मेंथा ऑयल में तेजी देखने को मिली। इससे एमसीएक्स पर मेंथा ऑयल का फरवरी वायदा 9.20 रुपए या 0.96 फीसदी की तेजी के साथ 962.80 रुपए प्रति किलोग्राम पर कारोबार कर रहा था। इससे पहले मेंथा ऑयल का भाव 1.14 फीसदी की गिरावट के साथ 953.60 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ था। मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार ब्रोकरेज फर्म केडिया एडवाइजरी के एमडी अजय केडिया का कहना कि निचले स्तरों से मेंथा ऑयल में खरीदारी लौटी है क्योंकि भाव आकर्षक स्तरों पर आ चुके हैं। उनका कहना है कि इस साल मेंथा की बुआई में देरी के चलते आगे कीमतों को सपोर्ट मिल सकता है। बता दें कि फार्मा और एफएमसीजी कंपनियां साबुन, सैनिटाइजर और कफ सीरप बनाने में मेंथा ऑयल का इस्तेमाल करती हैं। इसके अलावा पान मसाला उद्योग में भी मेंथा ऑयल की काफी खपत होती है।


प्याज भी आ रहा है अपने पुराने मिजाज में

मंडियों में नया प्याज आने के बाद लग रहा था कि लोगों को महंगाई से राहत मिलेगी पर ऐसा होता नहीं दिख रहा। प्याज की कीमतें पिछले 5 दिनों 20 रुपये तक बढ़ गई हैं। उपभोक्ता मंत्रालय की वेबसाइट पर दिए गए आंकड़ों के मुताबिक एक फरवरी की तुलना में जयपुर में प्याज 25 रुपए से बढक़र 45 रुपए पर आ गया है। इस दौरान प्याज के रेट में 15 रुपए प्रति किलो की वृद्धि हुई है। इसके अलावा मुंबई, दिल्ली, मुजफ्फरपुर समेत देश के कई शहरों में प्याज की कीमतों में एक रुपए से लेकर 20 रुपए तक उछाल इन पांच दिनों में आया है। वैसे तो देश के अधिकतर शहरों में प्याज का खुदरा मूल्य 20 से 60 रुपए के बीच रहा, लेकिन अधिकतर शहरों में यह 50 रुपए के पार बिक रहा है। मुंबई में एक जनवरी को प्याज 44 रुपया था, जो बढक़र अब 54 रुपए पर पहुंच गया है। वहीं इंफाल, बालासोर, राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र वयनाड में 50 रुपए किलो है। जयपुर, रांची और लखनऊ में भी प्याज 50 रुपए प्रति किलो बिक रहा है। हालांकि रायगंज, इंफाल, श्रीनगर, नागपुर और कानपुर जैसे शहरों में प्याज एक से 10 रुपए तक सस्ता भी हुआ है।


खाद्य पदार्थों की कीमतें बढऩे का क्या है कारण?

मीडिया से मिली जानकारी के आधार पर तेल उद्योग के जानकार सूत्रों के अनुसार मलेशिया एक्सचेंज में लगभग 2.5 प्रतिशत और शिकागो एक्सचेंज में लगभग एक प्रतिशत का सुधार आया जिसकी वजह से सीपीओ तेल कीमत में सुधार देखने को मिली। उन्होंने बताया कि सरसों की अगली फसल आने में 15-20 दिन का समय रह गया है और इस बार बंपर फसल की उम्मीद की जा रही है। लेकिन बाजार में पुराने सरसों की मांग होने से सरसों दाना और उसकी तेल कीमतों में पर्याप्त सुधार देखने को मिली। उन्होंने कहा कि निर्यात की मांग होने के कारण मूंगफली दाना और उसके तेल कीमतों में भी पर्याप्त सुधार आया। सूत्रों ने कहा कि कच्चे सोयाबीन तेल की देश में आपूर्ति इस बार गुजरात की जगह मध्य प्रदेश से हो रही है और यहां से गुजरात को भी कच्चे सोयाबीन तेल की आपूर्ति की जा रही है।

 

यह भी पढ़ें : मल्चर की पूरी जानकारी : खेत में चलाएं, मिट्टी की उर्वरा शक्ति और बढ़ाए


खाद्य वस्तुओं के बाजार में थोक भाव

बाजार में खाद्य पदार्थों की वस्तुओं के थोक भावों में सरसों तिलहन - 6,175 - 6,225 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपए प्रति क्विंटल, मूंगफली दाना - 5,590- 5,655 रुपए प्रति क्विंटल, मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,000 रुपए प्रति क्विंटल, मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,240 - 2,300 रुपए प्रति टिन, सरसों तेल दादरी- 12,600 रुपए प्रति क्विंटल, सरसों पक्की घानी- 1,900 -2,050 रुपए प्रति टिन, सरसों कच्ची घानी- 2,030 - 2,145 रुपए प्रति टिन, तिल तेल मिल डिलिवरी - 11,100 -15,100 रुपए प्रति क्विंटल, सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 12,100 रुपए प्रति क्विंटल, सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 11,700 रुपए प्रति क्विंटल, सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 10,900 रुपए प्रति क्विंटल, सीपीओ एक्स-कांडला- 9,800 रुपए प्रति क्विंटल, बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 10,200 रुपए प्रति क्विंटल, पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 11,300 रुपए प्रति क्विंटल, पामोलिन कांडला 10,550 (बिना जीएसटी के) प्रति क्विंटल, सोयाबीन तिलहन मिल डिलीवरी 4,675- 4,725 रुपए प्रति क्विंटल, लूज में 4,525- 4,560 रुपए प्रति क्विंटल, मक्का खल (सरिस्का) 3,525 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास चल रहा है।

इंदौर मंडी भाव : दलहन: चना (कांटा) 4800 से 4825 प्रति क्विंटल, मसूर 5250 से 5300 प्रति क्विंटल, तुअर (अरहर) नई निमाडी 6100 से 6750 रुपए प्रति क्विंटल, तुअर सफेद (महाराष्ट्र) 6800 से 6900 प्रति क्विंटल, तुअर लाल (कर्नाटक) 7200 से 7300 प्रति क्विंटल, मूंग 7800 से 8200 रुपए प्रति क्विंटल, मूंग हल्की 6000 से 7000 रुपए प्रति क्विंटल, उड़द 7800 से 8400 रुपए प्रति क्विंटल, उड़द हल्की 6000 से 7500 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास रहा।

दाल : तुअर (अरहर) दाल सवा नंबर 9100 से 9200 रुपए प्रति क्विंटल, तुअर दाल फूल 9300 से 9400 प्रति क्विंटल, तुअर दाल बोल्ड 9600 से 9800 प्रति क्विंटल, नई तुअर दाल 9900 से 10200 प्रति क्विंटल, चना दाल 5550 से 6050 प्रति क्विंटल, मसूर दाल 6250 से 6550 प्रति क्विंटल, मूंग दाल 8600 से 8900 प्रति क्विंटल, मूंग मोगर 9300 से 9700 प्रति क्विंटल, उड़द दाल 8600 से 9000 प्रति क्विंटल, उड़द मोगर 10300 से 11100 रुपए प्रति क्विंटल रहा।

चावल : चावल में बासमती (921) 9000 से 9500, तिबार 7500 से 8000, दुबार 6500 से 7000, मिनी मोगरा 3500 से 5500, बासमती सैला 6500 से 8500, काली मूंछ 5000 से 7000, राजभोग 5900 से 6000, दूबराज 3500 से 4000, परमल 2500 से 2600, हंसा सैला 2450 से 2550, हंसा सफेद 2200 से 2300, पोहा 3200 से 3700 रुपए प्रति क्विंटल रहा।

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Quick Links

scroll to top
Close
Call Now Request Call Back