• Home
  • News
  • Agri Business
  • बकरी पालन बिजनेस : बकरी पालन के लिए मिलेगा सस्ता लोन

बकरी पालन बिजनेस : बकरी पालन के लिए मिलेगा सस्ता लोन

बकरी पालन बिजनेस : बकरी पालन के लिए मिलेगा सस्ता लोन

बकरी पालन : जानें, कहां करना है अप्लाई और क्या देने होंगे दस्तावेज

भारत में गाय, भैंस की तरह ही बकरी पालन बहुत पहले से किया जाता रहा है। बकरी पालन की एक सबसे बड़ी बात ये हैं कि जो लोग गरीब हैं और गाय, भैंस नहीं रख सकते हैं उनके लिए बकरी पालन करना सबसे अच्छा रहेगा। बकरी पालन में बहुत कम खर्चा आता है और मुनाफा इससे कई गुना अधिक लिया जा सकता है। बकरी जो कि अपना आहार पेड़-पौधों की पत्तियां आदि खाकर लेती है। जबकि गाय, भैंसों को इससे अधिक आहार की आवश्यकता होती है। इसके लिए पशु आहार आदि बाजार से लाना पड़ता है। इस लिहाज से देखें तो बकरी पालन में बहुत कम खर्च आता है। बकरी पालन बिजनेस के लिए बैंको से लोन मिलता है और इसके लिए सरकार की ओर से सब्सिडी भी प्रदान की जाती है। 

Tractor Junction Mobile App

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रैक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1  


बकरी के दूध में पाए जाते है ये पोषक तत्व

लाइवस्ट्रॉग.कॉम (livestrong.com) की एक रिपोर्ट के मुताबिक बकरी के दूध में छोटे फैट पार्टिकल होते हैं। साथ ही इसमें उपलब्ध प्रोटीन छोटे बच्चों में होने वाली दूध उलटने की समस्या को कम करने में मदद करता है। गाय के दूध के मुकाबले बकरी के दूध में सेलेनियम, नियासिन और विटामिन ए की मात्रा अधिक होती है। अध्ययनों में यह भी पता चला है कि गाय के दूध की अपेक्षा बकरी के दूध में एलर्जी बढ़ाने वाले तत्व नहीं होते हैं। साथ ही इसमें लैक्टोज की मात्रा भी गाय के दूध के मुकाबले काफी कम होती है। अध्ययनों यह भी दावा किया जाता है कि बकरी के दूध में दिमाग की क्षमता बढ़ाने वाले सन्युग्म लिनोलिक ऐसिड भी होता है। बकरी के दूध पर किए गए शोध में बताया गया है कि बकरी का दूध आयरन के बेहतर इस्तेमाल में मदद करता है। इससे आयरन और कैल्शियम, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम जैसे मिनरल्स के साथ परस्पर क्रिया की संभावना कम हो जाती है।

 

बकरी का दूध इन बीमारियों में काफी लाभकारी

बकरी का दूध ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है। इम्यून सिस्टम बढ़ता है। इसके साथ ही बकरी का दूध हमारी हड्डियों को मजबूत बनाता है। एक रिसर्च में पता चला है बकरी का दूध पीने से आंतों की सूजन कम होती है। रोजाना बकरी का एक ग्लास दूध पीना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है।


बकरे के मांस की रहती बाजार में डिमांड

भारत मेंबकरी के दूध के साथ ही बकरे के मांस की बाजार में काफी मांग रहती है। मांस खाने के शौकीन लोगों के लिए बकरे का मांस उनका पसंदीदा मांस में एक है। इसकी मांग देश भर में हमेशा बनी रहती है। बकरी पालन व्यवसाय में आमदनी अच्छी होने से बहुत से किसान इससे जुड़ रहे हैं। इससे किसानों को बहुत फायदा हो रहा है। 


बकरी पालन के लिए उन्नत नस्ल

अगर कोई व्यवसायिक रूप में बकरी पालन शुरू करना चाहता है तो बरबरी बकरी सबसे अच्छी नस्ल है। जमुनापारी नस्ल 22 से 23 महीने में, सिरोही 18 महीने में गाभिन होती है वहीं बरबरी 11 महीने में बच्चे देने के लिए तैयार हो जाती है। यह साल में दो बार दो से तीन बच्चे दे सकती है। 


बकरी पालन में प्रति बकरी कितना आता है खर्चा

एक साल में एक बरबरी बकरी तैयार करने में तीन हजार रुपए का खर्चा आता है और बाजार में इसकी कीमत करीब दस हजार रुपए तक है। अब बात करें इस नस्ल की बकरियों से मिलने वाले दूध की तो यह बकरियां प्रतिदिन एक किलो दूध देती हैं और गर्मी, बरसात, सर्दी सभी तरह के वातावरण में आसानी से रह सकती हंै।


बकरी पालन के लिए बैंक से ले सकते हैं लोन

यह एक प्रकार का वर्किंग कैपिटल लोन है जिसका उपयोग बकरी पालन व्यवसाय के लिए किया जा सकता है। किसी भी व्यवसाय की तरह बकरी पालन व्यवसाय को शुरू करने के लिए कुछ राशि की आवश्यकता होती है। वर्किंग कैपिटल की जरूरतों को पूरा करने और कैश फ्लो को बनाए रखने के लिए, ग्राहक विभिन्न निजी और सरकारी बैंकों द्वारा दिए गए बकरी पालन लोन का विकल्प चुन सकते हैं।


किन कामों के लिए मिलता है लोन

बकरी पालन लोन उपयोग भूमि खरीद, शेड निर्माण, बकरियां खरीदने, चारा खरीदने आदि के लिए किया जा सकता है। सरकार ने बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए उद्यमियों के लिए कई नई योजनाएं शुरू की हैं और सब्सिडी शुरू की है। बैंकों या लोन संस्थानों की सहायता से शुरू की गई कुछ प्रमुख योजनाओं और सब्सिडी की जानकारी नीचे दी गई है।


बकरी पालन के लिए मिलता है सब्सिडी का लाभ

नाबार्ड विभिन्न बैंकों या लोन संस्थानों की मदद से बकरी पालन लोन प्रदान करता है। नाबार्ड की योजना के अनुसार, गरीबी रेखा के नीचे, एससी/एसटी श्रेणी में आने वाले लोगों को बकरी पालन पर 33 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। अन्य लोगों के लिए जो ओबीसी और सामान्य श्रेणी के अंतर्गत आते हैं, उन्हें 25 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। जो कि अधिकतम 2.5 लाख रुपए होगी।

Buy Truck


ये बैंक देते हैं बकरी पालन के लिए लोन

भारत में बकरी पालन बिजनेस अब तेजी से बढ़ रहा है। इसे प्रगतिशील, युवा शिक्षित किसान अपना रहे हैं। इस व्यवसाय में अच्छी आमदनी किसानों को बकरी पालन के लिए आकर्षिक कर रही है। बकरी पालन के लिए कई बैंक लोन दे रहे हैं कुछ प्रमुख बैंकों की जानकारी इस प्रकार से हैं-

 

एसबीआई बकरी पालन लोन

बकरी पालन के लिए लोन राशि व्यवसाय की आवश्यकताओं और आवेदक की प्रोफाइल पर निर्भर करेगी। आवेदक को एक अच्छी तरह से तैयार किया गया बिजनेस प्लान पेश करनी चाहिए जिसमें क्षेत्र, स्थान, बकरी की नस्ल, उपयोग किए गए उपकरण, वर्किंग कैपिटल निवेश, बजट, मार्केटिंग की रणनीति, श्रमिकों का विवरण आदि जैसी सभी आवश्यक व्यवसायिक जानकारी शामिल होनी चाहिए, आवेदक द्वारा योग्यता शर्तों को पूरा करने के बाद एसबीआई आवश्यकता के अनुसार लोन राशि को मंजूरी देगा। एसबीआई भूमि के कागजों को गारंटी के रूप में पेश करने के लिए कह सकता है। ब्याज दर आवेदक की प्रोफाइल के आधार पर अलग-अलग हो सकती है।


बकरी पालन के लिए नाबार्ड लोन

नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) का मुख्य फोकस पशुधन खेती के उत्पादन को बढ़ाने के लिए छोटे और मध्यम किसानों की आर्थिक मदद करना है जो अंतत: रोजगार के अवसरों में वृद्धि करेगा। नाबार्ड विभिन्न बैंकों या लोन संस्थानों की मदद से बकरी पालन लोन प्रदान करता है। नाबार्ड की योजना के तहत जो इन बैंको से बकरी पालन के लिए लोन लिया जा सकता है। वे इस प्रकार से हैं-

  • कॉमर्शियल बैंक
  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक
  • राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक
  • राज्य सहकारी बैंक
  • शहरी बैंक आदि।


केनरा बैंक बकरी पालन लोन

केनरा बैंक अपने ग्राहकों को आकर्षक ब्याज दरों पर भेड़ और बकरी पालन लोन) प्रदान करता है। पालन के लिए एक विशिष्ट क्षेत्र के अनुकूल बकरियों की खरीद के उद्देश्य से लोन का लाभ उठाया जा सकता है।


आईडीबीआई बैंक

आईडीबीआई बैंक अपनी योजना एग्रीकल्चर फाइनेंस शीप एंड गोट रेयरिंग के तहत भेड़ और बकरी पालन के लिए लोन प्रदान करता है। भेड़ और बकरी पालन के लिए आईडीबीआई बैंक द्वारा दी जाने वाली न्यूनतम लोन राशि 50,000 रुपए है और अधिकतम लोन राशि 50 लाख रुपए है। यह लोन राशि व्यक्तियों, समूहों, सीमित कंपनियों, शेपर्ड के सह-ऑप सोसायटी और संस्थाओं द्वारा ली जा सकती है जो इस गतिविधि में लगे हुए हैं।


बकरी पालन के लिए मुद्रा लोन

चूंकी बकरी पालन कृषि क्षेत्र के अंतर्गत आता है, इसलिए पीएमएमवाई के तहत शुरू की गई माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी मुद्रा लोन योजना के तहत बकरी पालन के लिए लोन बैंकों द्वारा प्रदान नहीं किया जाएगा। बैंकों की मदद से मुद्रा गैर-कृषि क्षेत्र में लगे व्यक्तियों और उद्यमों को सेवा और विनिर्माण क्षेत्रों में आय उत्पन्न करने वाली गतिविधियों के लिए 10 लाख रुपए तक का लोन प्रदान करती है। हालांकि, राज्य और केंद्र सरकार ने बकरी पालन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न लोन योजनाएं और सब्सिडी शुरू की हैं ।


बकरी पालन लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज

बकरी पालन के लिए बैंक से लोन लेने के लिए आवेदन करते समय आपको कुछ दस्तावेज की आवश्यकता होगी। ये दस्तावेज इस प्रकार से हैं-

  • 4 पासपोर्ट साइज फोटो
  • पिछले 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट
  • एड्रैस पू्रफ
  • इनकम प्रूफ
  • आधार कार्ड
  • बीपीएल कार्ड, यदि उपलब्ध हो
  • जाति प्रमाण पत्र, यदि एससी / एसटी / ओबीसी
  • मूल निवासी प्रमाण पत्र
  • बकरी पालन प्रोजेक्ट रिपोर्ट
  • भूमि रजिस्ट्री के दस्तावेज

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Top Agri Business

Goat Farming Business Loan - The Process to Apply for It

Goat Farming Business Loan - The Process to Apply for It

Goat Farming Business Loan - The Process to Apply for It, One of the biggest things about goat farming is that it will be best for the poor farmers who can not keep cows and buffaloes.

भेड़ पालन बिजनेस : भेड़ पालन पर सरकार से मिलेगा 50 हजार रुपए का फायदा

भेड़ पालन बिजनेस : भेड़ पालन पर सरकार से मिलेगा 50 हजार रुपए का फायदा

भेड़ पालन बिजनेस : भेड़ पालन पर सरकार से मिलेगा 50 हजार रुपए का फायदा (Sheep farming Business), भारत में भेड़ पालन : जानें, कहां करना है आवेदन और क्या देने होंगे दस्तावेज

मक्का का भाव : मक्का की कीमतों में तेजी, 1800 रुपए से ऊपर पहुंचा भाव 

मक्का का भाव : मक्का की कीमतों में तेजी, 1800 रुपए से ऊपर पहुंचा भाव 

मक्का का भाव : मक्का की कीमतों में तेजी, 1800 रुपए से ऊपर पहुंचा भाव (Corn prices rise), जानें, देश की प्रमुख मंडियों में मक्का के ताजा भाव 

ग्वार का भाव : ग्वार में तेजी का सर्किट, 12 हजार रुपए क्विंटल पहुंचा भाव

ग्वार का भाव : ग्वार में तेजी का सर्किट, 12 हजार रुपए क्विंटल पहुंचा भाव

ग्वार का भाव : ग्वार में तेजी का सर्किट, 12 हजार रुपए क्विंटल पहुंचा भाव ( Price of Guar), जानें, देश की प्रमुख मंडियों में ग्वार का भाव और आगे बाजार का रूख 

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor