भावांतर भरपाई योजना : किसान के नुकसान की भरपाई करेगी सरकार

भावांतर भरपाई योजना : किसान के नुकसान की भरपाई करेगी सरकार

Posted On - 23 May 2020

अब किसान 31 मई तक करा सकेंगे रजिस्ट्रेशन

कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन के कारण हरियाणा में भावांतर भरपाई योजना में रजिस्ट्रेशन की तिथि बढ़ा दी गई है। अब किसान इस योजना में 31 मई तक अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। जबकि पहले इस योजना में रजिस्ट्रेशन की तिथि 31 मार्च थी। हरियाणा के कृषि मंत्री ने माना कि लॉकडाउन की वजह से किसानों की सब्जियां की खपत में कमी आई है। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जय प्रकाश दलाल ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए इसकी तारीख बढ़ाई गई है। साथ ही प्रदेश की सभी मार्किट कमेटियों को दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि किसानों की सब्जियों के उत्पाद की मार्केटिंग सुनिश्चित करें। इस दौरान अगर सब्जियों के भाव सरकार द्वारा निर्धारित संरक्षित मूल्य से कम रहते हैं तो सरकार द्वारा भावांतर की भरपाई की जाएगी। यहां हम ये बता दें कि भावांतर योजना के तहत किसानों को अपनी उपज को बेचने से पहले इसका रजिस्ट्रेशन करना जरूरी है। तभी उसे इस योजना का लाभ मिल पाएगा।

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1

 

क्या है भावांतर भरपाई योजना 

इस योजना के तहत मंडी में फसल के भाव गिर जाने पर सरकार बाजार भाव और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के बीच के अंतर की राशि किसानों को देती है। यह राशि किसानों के खाते में जमा की जाती है। इस तरह सरकार किसानों को हुए नुकसान की भरपाई करती है।

 

 

इस तरह कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन

भावांतर योजना में रजिस्ट्रेशन ई-उपार्जन पार्टल पर जाकर किसान करा सकता है। इस पार्टल पर खरीफ/रबी किसान पंजीयन का कॉलम दिया गया है। इस पर जानकारी भरकर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

 

रजिस्ट्रेशन के लिए कौन-कौन से दस्तावेज होंगे देने 

  • इसमें किसान को अपना आधार नंबर देना होगा।
  • किसान के पास बैंक खाता होना जरूरी है। सरकार की तरफ से इसी खाते में भावांतर भुगतान किया जाएगा।
  • किसान को अपना मोबाइल नंबर देना होगा। इससे एसएमएस से किसानों को भावांतर की राशि के भुगतान की सूचना मिलती रहेगी।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद पावती प्रिंट अवश्य ले, क्योंकि फसल की खरीद के समय पावती ले जाना आवश्यक है।

 

सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के मॉडल, पुराने ट्रैक्टरों की री-सेल, ट्रैक्टर खरीदने के लिए लोन, कृषि के आधुनिक उपकरण एवं सरकारी योजनाओं के नवीनतम अपडेट के लिए ट्रैक्टर जंक्शन वेबसाइट से जुड़े और जागरूक किसान बने रहें।

Quick Links

scroll to top