• Home
  • News
  • Agri Business
  • कृषि बाजार समाचार : तिलहन की अच्छी कीमत मिलने से सोयाबीन की जमकर बुवाई

कृषि बाजार समाचार : तिलहन की अच्छी कीमत मिलने से सोयाबीन की जमकर बुवाई

कृषि बाजार समाचार : तिलहन की अच्छी कीमत मिलने से सोयाबीन की जमकर बुवाई

सोयाबीन का रकबा 10 प्रतिशत तक बढऩे का अनुमान, जानें, सोयाबीन के ताजा भाव

इस बार किसानों को तिलहन की अच्छी कीमत मिलने से किसान खरीफ सीजन में तिलहन की फसल की बुवाई कर रहे हैं। मध्यप्रदेश सहित सोयाबीन उत्पादक राज्यों में सोयाबीन की बुवाई की जा रही है। उम्मीद की जा रही है कि खरीफ सीजन में सोयाबीन का रकबा 10 प्रतिशत तक बढ़ सकता है। बता दें कि इस बार किसानों को सरसों व सोयाबीन के बाजार में अच्छे भाव मिले है। वहीं केंद्र सरकार ने भी वर्ष 2021-22 के खरीफ विपणन सत्र के लिए सोयाबीन का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 3,950 रुपए प्रति क्विंटल तय कर दिया है। एमएसपी की यह दर पिछले सत्र के मुकाबले 70 रुपए प्रति क्विंटल अधिक है। इससे किसानों को एमएसपी पर भी सोयाबीन की फसल बेचने से लाभ होगा। 

AdTractor Junction Mobile App

 

सबसे पहले सरकार की सभी योजनाओ की जानकारी के लिए डाउनलोड करे, ट्रेक्टर जंक्शन मोबाइल ऍप - http://bit.ly/TJN50K1 


सोयाबीन की फसल को लेकर कृषि मंत्रालय का अनुमान

कृषि मंत्रालय ने अपने अनुमान में बताया है कि इस बार तिलहनी फसलों की पैदावर में बंपर बढ़त होगी। मंत्रालय के मुताबिक, इस साल तिलहन के पैदावार में 33 लाख 46 हजार टन से अधिक की वृद्धि देखने को मिल सकती है। इस बार देश में तिलहन की पैदावार 3 करोड़ 65 लाख 65 हजार टन होने का अनुमान है। बीते साल तिलहन की उपज 3 करोड़ 32 लाख 19 हजार टन रही थी।


इस बार खरीफ सीजन में होगी सोयाबीन की जमकर बुवाई

इस बार तिलहन का अच्छा दाम मिलने से किसानों का रूझान सोयाबीन की खेती की ओर हो रहा है। इसके परिणामस्वरूप इस बार सोयाबीन की पैदावार में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। फसल वर्ष 2020-21 के लिए जारी कृषि मंत्रालय के तीसरे अग्रिम अनुमान के मुताबिक, देश भर में खरीफ सोयाबीन की उपज 1 करोड़ 34 लाख 14 हजार टन से ज्यादा हो सकती है, जो बीते साल की समान अवधि के दौरान 1 करोड़ 12 हजार टन रही थी। वहीं, खाद्य तेल की बढ़ती कीमतों को तिलहनी फसलों की रकबे में बढ़ोतरी को एक कारण माना जा रहा है। बीते एक साल में खाने के तेल की कीमतों में भारी इजाफा हुआ है। माना जा रहा है कि इस बार किसानों को तिलहन का अच्छा दाम मिला है। इसी वजह से वे खरीफ सीजन में जमकर बुवाई कर रहे हैं।


सोयाबीन का बंपर उत्पादन होने का अनुमान

इस खरीफ सत्र में देश में सोयाबीन का रकबा 10 फीसदी बढ़ता सकता है। इससे देश में सोयाबीन का रिकार्ड उत्पादन होने की उम्मीद है। इससे खाद्य तेलों के महंगे आयात से राहत मिल सकती है। यह अनुमान इंदौर स्थित सोयाबीन प्रोसेसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सोपा) ने मौजूदा खरीफ सत्र के दौरान जारी किया है। सोपा के अनुसार सोयाबीन का राष्ट्रीय रकबा 10 फीसद बढक़र 132 लाख हेक्टेयर के आस-पास रहने का अनुमान है। सोपा के के चेयरमैन डेविश जैन ने मीडिया को बताया कि हमें लगता है कि इस बार देश में सोयाबीन के रकबे में करीब 10 फीसदी का इजाफा होगा। उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 के खरीफ सत्र के दौरान देश में करीब 120 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन बोया गया था, जबकि इसकी पैदावार 105 लाख टन के आस-पास रही थी। इधर फसल वर्ष 2020-21 के लिए जारी कृषि मंत्रालय के तीसरे अग्रिम अनुमान के मुताबिक, देश भर में खरीफ सोयाबीन की उपज 1 करोड़ 34 लाख 14 हजार टन से ज्यादा हो सकती है। जो बीते साल की समान अवधि के दौरान 1 करोड़ 12 हजार टन रही थी। 

AdBuy Truck


भारत में इन राज्यों में होता है सोयाबीन का उत्पादन

सोयाबीन का भारत में 12 मिलियन टन उत्पादन होता है। यह भारत में खरीफ की फसल है। भारत में सोयाबीन का अग्रणी उत्पादक राज्य मध्य प्रदेश है, जो भारत के कुल सोयाबीन उत्पादन में 49.93 प्रतिशत का योगदान देता है। महाराष्ट्र का 34.09 प्रतिशत तथा राजस्थान का 11.85 प्रतिशत का योगदान है। मध्यप्रदेश में इंदौर में सोयाबीन रिसर्च सेंटर है। विश्व का 60 प्रतिशत सोयाबीन अमेरिका में पैदा होता है। 


स्वास्थ्य के लिए बहुउपयोगी है सोयाबीन

सोयाबीन एक फसल है। यह दलहन के बजाय तिलहन की फसल मानी जाती है। सोयाबीन दलहन की फसल है शाकाहारी मनुष्यों के लिए इसको मांस भी कहा जाता है क्योंकि इसमें बहुत अधिक प्रोटीन होता है। इसका वानस्पतिक नाम गलीसईन मैक्स है। स्वास्थ्य के लिए एक बहुउपयोगी खाद्य पदार्थ है। सोयाबीन एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत है। इसके मुख्य घटक प्रोटीन, कार्बोहाइडेंट और वसा होते है। सोयाबीन में 38-40 प्रतिशत प्रोटीन, 22 प्रतिशत तेल, 21 प्रतिशत कार्बोहाइडेंट, 12 प्रतिशत नमी तथा 5 प्रतिशत भस्म होती है।


प्रमुख मंडियों में सोयाबीन के ताजा भाव

  • छतरपुर ग्रेन मार्केट में सोया का नया भाव 5300 से लेकर 5800 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास चल रहे हैं। 
  • लातूर पोटली मंडी में सोयाबीन का मूल्य 6700 रुपए प्रति क्विंटल के चल रहा है।
  • अलीराजपुर कृषि मंडी में सोया के लाइव रेट 6500 से लेकर 7000 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।
  • जोबट, अकोला, राजकोट मंडी में सोया का मूल्य 6575 से लेकर 7000 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास है। 
  • राजकोट मंडी में सोयाबीन की दर 6000 से 7000 रुपए के  बीच चल रहा है। 
  • जूनागढ़ मंडी में सोयाबीन का भाव  7000 से लेकर 7500 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।
  • दाहोद में सोयाबीन का बाजार भाव 6800 से 7000 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है।  

 

अगर आप अपनी कृषि भूमि, अन्य संपत्ति, पुराने ट्रैक्टर, कृषि उपकरण, दुधारू मवेशी व पशुधन बेचने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु की पोस्ट ट्रैक्टर जंक्शन पर नि:शुल्क करें और ट्रैक्टर जंक्शन के खास ऑफर का जमकर फायदा उठाएं।

Top Agri Business

सरसों का भाव : सरसों में फिर आई तेजी, 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव

सरसों का भाव : सरसों में फिर आई तेजी, 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव

सरसों का भाव : सरसों में फिर आई तेजी, 8 हजार रुपए प्रति क्विंटल पहुंचा भाव (Mustard Price) सरसों व सोयाबीन सहित अन्य खाद्य तेलों की कीमतें बढ़ी

कृषि बाजार भाव : सरसों व सोयाबीन की कीमतों में उछाल, किसानों को मुनाफा

कृषि बाजार भाव : सरसों व सोयाबीन की कीमतों में उछाल, किसानों को मुनाफा

कृषि बाजार : सरसों व सोयाबीन की कीमतों में उछाल, किसानों को मुनाफा (Agriculture market: Mustard and soybean prices), जानें, सरसों व सोयाबीन मंडियों का ताजा भाव.

बंगाल, बिहार और असम में सरसों की जोरदार मांग, तेल के भाव भी उछले

बंगाल, बिहार और असम में सरसों की जोरदार मांग, तेल के भाव भी उछले

बंगाल, बिहार और असम में सरसों की जोरदार मांग, तेल के भाव भी उछले (Strong demand for mustard in Bengal, Bihar and Assam, oil prices also jumped), जानें, देश की प्रमुख मंडियों में सरसों सहित अन्य तिलहन के ताजा भाव

Robust Farm, Escalating Demand Boosts Revenue of Goodyear By 50%

Robust Farm, Escalating Demand Boosts Revenue of Goodyear By 50%

Robust Farm, Escalating Demand Boosts Revenue of Goodyear By 50%, INR 43 crore Registered this Year Against INR 13 crore a year ago, Which shows 250% Growth.

close Icon

Find Your Right Tractor and Implements

New Tractors

Used Tractors

Implements

Certified Dealer Buy Used Tractor